ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
पासवान ने भारतीय मानक ब्यूरो की राष्ट्रीय प्रयोगशाला निर्देशिका की शुरुआत की
August 30, 2019 • Snigdha Verma
नई दिल्ली
केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री रामविलास पासवान ने शुक्रवार को भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) की राष्ट्रीय प्रयोगशाला निर्देशिका की शुरुआत की। विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में निर्देशिका के ऑनलाइन उद्घाटन के बाद अपने संबोधन में पासवान जी ने कहा कि इस प्रयोगशाला निर्देशिका के बन जाने के बाद BIS के साथ साथ NABL, FSSAI, EIC, APETA औरCRCB जैसी सारी एजेंसियां एक प्लेटफार्म से जुड़ गयी हैं। अब देश भर में फैले 4000 से ज्यादा प्रयोगशालाओं की सारी जानकारी ऑनलाइन हासिल की जा सकती है। इसके माध्यम से सूचना का संकलन करने, आम आदमी के सामने रखने और मैन्युफैक्चरर्स को अपने उत्पाद के आधार पर,, प्रयोगशालाओं की श्रेणियों के आधार पर अपने नजदीकी प्रयोगशाला का पता लगाने में सक्षम होगा। बीआईएस ने भारतीय मानकों के साथ साथ अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार भी परीक्षण सुविधाओं के प्रावधान किए हैं। इसके साथ ही बीआईएस ने आज सार्वजनिक वेब इंटरफेस की भी शुरुआत की है। साथ ही manak app की भी शुरुआत की जा रही है। यह उपभोक्ताओं तथा खरीददारों को अपनी पसंद की वस्तुएं खरीदते समय उसकी गुणवत्ता के प्रति जागरूक करने में सहायक होगा। बीआईएस इन प्रयासों के माध्यम से मैन्युफैक्चरर्स और उपभोक्ताओं को सुविधाएं प्रदान कर रहा है और आईटी उपकरणों का प्रयोग कर उनके कार्य को आसान बना रहा है। बीआईएस के सामने अभी कई चुनौतियां हैं जिसे पूरा करना। विदेश से खासकर चीन से आयात होने वाले सस्ते और कम गुणवत्ता वाले सामानों की जांच की अभी कोई व्यवस्था नहीं है। भारतीय मानकों के मापदंड पर ये आयातित सामान कैसे खरे उतरेंगे यह तय करना बहुत जरूरी है। दूसरा, प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त के अपने भाषण में खतरनाक एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक को खत्म करने का आह्वान किया है। इससे सबसे ज्यादा प्लास्टिक की बोतलों में बिकने वाले पानी पर असर पड़ने वाला है। बोतलबंद पानी आज की आवश्यकता है। ऐसे में यदि प्लास्टिक की बोतलों पर प्रतिबंध लगता है तो इसका  विकल्प पहले से खोज कर रखना होगा और ये जिम्मेदारी बीआईएस की ही है।