ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
सभी गोशालाएं/गोसंवर्धन केन्द्र हों स्वच्छ- श्याम नंदन सिंह
October 4, 2019 • Snigdha Verma

स्वच्छता अभियान के तहत गोशालाओं और गोसंवर्धन केन्द्रों की साफ सफाई के लिए उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग की अपील

उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग के अध्यक्ष की गोपालकों से स्वच्छता की अपील

लखनऊ। महात्मा गांधी की 151वीं जयंति के तहत मनाए जा रहे स्वच्छता पखवाड़े के तहत सभी गोशालाओं और गोसंवर्धन केन्द्रों से उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग के अध्यक्ष श्याम नंदन सिंह ने अपील की है कि सभी अभियान में शामिल हों। श्याम नंदन सिंह ने कहा है कि गो सेवा आयोग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों में हमकदम है।

आयोग की अपेक्षा है गांधी जी के स्वच्छता के विचारों को अपनाते हुए सभी गोशालाओं और गोसंवर्धन केन्द्रों, गो आश्रय स्थलों के पदाधिकारी अपने स्तर से स्वच्छता कार्यक्रम का आयोजन करें, इन आयोजनों में स्थानीय ग्राम प्रधानों और पंचायत के पदाधिकारियों के साथ ही किसानों और युवाओं के साथ बच्चों और महिलाओं का भी सहयोग लें। जिससे इन केन्द्रों से स्थानीय समाज का जुड़ाव होगा और लोगों की भागीदारी से केन्दों के कामकाज में पारदर्शिता भी आएगी। इस अवसर पर यथासंभव जन सहभागिता से वृक्षारोपण भी करवाया जाए और गोपालन में विशेष रूचि रखने वाले गोप्रेमियों को वृक्षों की देखभाल के साथ ही गोवंश के पालन पोषण के लिए प्रोत्साहित करते हुए आर्थिक योगदान के साथ उनके परिजनों की स्मृति में नाम पट्टिका लगवाए जाने की व्यवस्था की जाए, जिससे अधिक से अधिक लोगों का सहयोग गोवंश के संरक्षण में हासिल हो सकेगा।

श्याम नंदन सिंह ने कहा कि गोशाला की स्वच्छता से गोशालाओं, गोसंरक्षण केन्द्रों और गो आश्रय स्थलों का वातावरण आकर्षक होगा और गोवंश का स्वास्थ्य भी बेहतर होगा। स्वस्थ गोवंश से मिलने वाले पंचगव्य की गुणवत्ता में भी सुधार स्वच्छता से होगा। आयोग का प्रयास की उत्तर प्रदेश की देशी नस्ल के गोवंश के संरक्षण के साथ ही सभी गोशालाएं/ गोआश्रय स्थल और गो संरक्षण-संवर्धन केन्द्र अपने स्थान पर ही वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन, जैव कीटनाशी का निर्माण और गोबर से बनने वाली विभिन्न कलाकृतियों, गणेश और लक्ष्मी की मूर्तियों का निर्माण कर अपनी आय बढ़ा सकें। जिससे सरकार के द्वारा प्रति गोवंश प्रतिदिन 30 रूपए मिलने के साथ अतिरिक्त आमदनी भी संभव हो सके।

आयोग गो संरक्षण केन्द्रों/ गो आश्रय स्थलों और गोशालाओं को जैविक खेती का केन्द्र बनाए जाने की दिशा में प्रयासरत है, जिसके लिए आयोग जल्द ही मंडल स्तर पर प्रशिक्षण कार्यशालाओं की भी शुरूआत करेगा। श्याम नंदन सिंह ने गोपालकों और गोप्रेमियों से गोवंश के संरक्षण की दिशा में नवाचारी प्रयासों, विभिन्न तरह के उत्पादों के निर्माण के संबंध में आयोग को अवगत करवाने की अपील की है। इसक लिए कोई भी गोसेवा आयोग की वेबसाइट www.upgosevaayog.in   पर या फिर ईमेल gosevaaayogup@gmail.com के जरिए इस संबंध में विवरण साझा कर सकता है।