ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
स्वच्छता एवं पॉलिथिन उन्मूलन’ प्रतियोगिता के विजेता छात्रों को विद्या भारती ने किया पुरस्कृत
September 30, 2019 • Snigdha Verma

 लखनऊ। विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश ने 26 अगस्त से 29 सितम्बर 2019 तक आयोजित स्वच्छता एवं पॉलीथिन उन्मूलन प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण एवं सम्मान सामारोह निराला नगर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में संपन्न हुआ। यह प्रतियोगिता जल, जंगल, जीव और जमीन के प्रति व्यापक जन जागृति और भागीदारी बढ़ाने के उद्देश्य से विद्या भारती विद्यालय जिला व प्रांत स्तर पर संचालित की गई थी। प्रतियोगिता दूसरे दिन सोमवार को कार्यक्रम की शुरुआत सुबह आरती, सरस्वती बंदना और बच्चो द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ की गई।

पुरस्कार वितरण व सम्मान समारोह कार्यक्रम की शुरात प्रात: 10:30 विशिष्ट अतिथि गो सेवा आयोग के अध्यक्ष श्यामनंदन सिंह,  कुलपति केजीएमयू प्रो एमएलबी भट्ट, प्रो लखनऊ विश्विद्यालय के कुलपति प्रो एस पी सिंह,  क्षेत्रीय मंत्री विद्या भारती जय प्रताप सिंह, वरिष्ठ प्रचारक संघ एवं राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतिन्द्र शर्मा, क्षेत्रीय संगठन मंत्री विद्या भारती पूर्वी उप्र हेमचंद्र आदि ने दीप प्रज्वालित कर की। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले चोरों छात्रों निबन्ध लेखन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार कक्षा नौ की छात्रा अनन्या सिंह, सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज फतेहपुर को मिला, कविता लेखन में कक्षा 10 की छात्रा क्षमा दूबे सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज, इंदिरानगर को प्राप्त हुआ, चित्रकला में कक्षा 10 की छात्रा साधना वर्मा, सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज झांसी को मिला और आदर्श वाक्य लेखन में कक्षा 12 के छात्र आलोक कुमार, रघुवर प्रसाद जयसवाल सरस्वती शिशु मंदिर इंटर कालेज तेतरी बाजार सिद्धार्थ नगर को 21000 -21000 रुपए का नकद पुरस्कार और चल बैजन्ति ट्राफी और प्रमाण पत्र दिया गया गया। द्वितीय पुरस्कार पाने वाले को 11000-11000 रुपए, तृतीय पुरस्कार पाने वाले छात्रों को 5100-5100 रुपए और सांत्वना पुरस्कार के रुप में छात्रों को 1100-1100 रुपए का नकद पुरस्कार और प्रमाण पत्र दिया गया।

कार्यक्रम के आगे बढ़ाते हुए सौरभ मिश्रा ने बताया कि कार्यक्रम की रचना इस तरह से की गयी है कि हर साल बच्चें चार बार इसमें प्रतिभाग कर सकें। उन्होंने कहा कि प्रतियोगिता में प्रथम विजेता बच्चों को नगद पुरस्कार के साथ उनके विद्यालयों को चल बैजन्ति भी दी जाएगी। लेकिन अगले वर्ष जब यह प्रतियोगिता फिर शुरू होगी तो यह बैजन्ति उस विद्यालय से वापस आ जाएगी और फिर प्रतियोगिता में जो विद्यालय जीतेगा उसे दे दी जाएगी। इसलिए विद्यालयों के गुरुजनों और विद्यार्थीयों का यह दायित्व होगा कि वह निरन्तरता मेहनत कर इसे अपने विद्यालय में बनाए रखें।

कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित मुख्य सचिव उप्र राजेंद्र कुमार तिवारी ने कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि विद्या भारती के इस कार्यक्रम से जुड़ने का मुझे अवसर मिल। यह परिसर ही ऊर्जा से भरा हुआ है जो यहां आने पर आपको अपने अंदर प्रतीत होती है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ भी स्वच्छता को लेकर काफी संवेदनशील हैं और उनके नेतृत्व में कई ऐसे कार्यक्रम हुए हैं जिन्होंने प्रदेश को स्वच्छ बनाया है।

कार्यक्रम के दौरान किंग जार्ज मेडिकल विश्विद्यालय लखनऊ के कुलपति प्रो एमएलबी भट्ट ने कहा कि प्रतियोगिता के माध्यम से जागरुकता को लेकर किया जा रहा यह कार्यक्रम अंत्यन्त महत्वपूर्ण है। मै प्रतियोगिता में शामिल सभी विजेताओं के उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं। स्वच्छता स्वास्थ्य की दृष्टि से भी सबसे महत्वपूर्ण कदम है। स्वच्छता के चलते ही हमें यह उपलब्धि प्राप्त हुई है कि मनुष्य की औसत आयु में बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने उपस्थित सभी लोगों से पॉलिथीन और प्लास्टिक के वस्तुओं को छोड़ने की अपील की।

कार्यक्रम में आए लखनऊ विश्विद्यालय के कुलपति प्रो एसपी सिंह नेअपने संबोधन में कहा कि पॉलीथीन के इस्तेमाल की अवधि काफी पुरानी नहीं है। अब से तकरीबन 40-50 साल पहले लोग पॉलीथीन की जगह झोले आदि का इस्तेमाल किया करते थे। लेकिन आज यह पॉलिथीन रूपी दनाव ने हमें जकड़ रखा , लेकिन अब समय आ गया है हम इस दानव का त्याग कर देश कोस स्वच्छ बनाएं।

प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने वाले सभी विद्यार्थियों को बधाई एवं शुभकामनें देते हुए राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार बेसिक शिक्षा डॉ सतीश चंद्र द्विवेदी ने कहा कि स्वच्छता को केंद्र में रखकर चलाई गयी इस प्रतियोगिता के लिए विद्या भारती बधाई की पात्र है। हमें विद्या भारती से बहुत कुछ सीखने को मिला है। हमने विद्या भारती से ही सीख लेकर अपने सरकारी बेसिक विद्यालयों में बहुत से बदलाव किया है और बहुत कुछ हम सिख भी रहे है। उन्होंने कहा कि हमने अपने विद्यलयों में विद्या भारती से सीख लेकर योग का पाठ भी प्रारम्भ कर दिया है। डॉ सतीश चंद्र द्विवेदी ने कहा कि हमने हर माह के प्रथम सोमवार को प्राथमिक विद्यलयों में शिक्षक और अभिभावक बैठक का प्रावधान भी किया है। इसी के साथ 1 अक्टूबर में हम वृद्ध दिवस मनाने जा रहे है। 13-14 दिसम्बर को राष्ट्रीय स्तर पर एक संगोष्ठी का आयोजन भी किया जा रहा है।

कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग के अध्यक्ष प्रो. श्यामनंदन सिंह ने कहा कि हमे जलन होती है कि हमारे विद्यार्थी जीवन के समय विद्या भारती जैसे शिक्षण संस्थान क्यों नहीं थे। इसका दुख हमें आज भी होता है। विजयी विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उन्होंने विद्याभारती द्वारा ऐसे विषयों को उठाए जाने की प्रशंसा की। और कहा पॉलिथिन का त्याग कर बहुत जारुरी है और इसके लिए समाज के जागरुक करना बहुत जरुरी है।

कार्यक्रम के समापन के दौरान क्षेत्रीय संगठन मंत्री हेमचंद्र द्वारा बताया गया कि विद्या भारती पूर्वी यूपी में तकरीबन 1100 औपचारिक विद्यालय है जिनमें 4 लाख से ज्यादा भाई-बहन अध्ययन कर रहे हैं। उनसे तकरीबन 3 लाख परिवार हमसे जुड़े हुए हैं। अगर इन परिवारों को पॉलिथीन के इस्तेमाल और स्वच्छता को लेकर जागरुक किया गया तो इसका व्यापक असर देखने को मिलेगा। वरिष्ठ प्रचारक संघ एवं राष्ट्रीय संगठन मंत्री यतिन्द्र शर्मा ने कहा कि यह प्रतियोगिता अत्यन्त सराहनीय है जो पुरस्कार निमित्त नहीं है। प्रतियोगिता का उद्देश्य गांव, शहर से मेधावी छात्र-छात्राओं को आगे बढ़ाना है।

कार्यक्रम में मुख्य सचिव, उप्र, राजेंद्र कुमार तिवारी, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार बेसिक शिक्षा डॉ सतीश चन्द्र, गो सेवा आयोग के अध्यक्ष श्यामनंदन सिंह, कुलपति केजीएमयू प्रो एमएलबी भट्ट, प्रो लखनऊ विश्विद्यालय के कुलपति प्रो एस पी सिंह, क्षेत्रीय मंत्री विद्या भारती जय प्रताप सिंह, वरिष्ठ प्रचारक संघ एवं राष्ट्रीय संगठन मंत्री यतिन्द्र शर्मा, क्षेत्रीय संगठन मंत्री विद्या भारती पूर्वी उप्र हेमचंद्र, विधायक माधवेन्द्र प्रताप, विधायक मिल्कीपुर गोरखनाथ बाबा, क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख विद्या भारती पूर्वी उप्र सौरभ मिश्रा आदि मौजूद रहें। कार्यक्रम का संचालन यूनाइट फाउण्डेशन के उपाध्यक्ष राधेश्याम दीक्षित ने किया।