ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
स्वच्छ जल की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए
October 4, 2019 • Snigdha Verma
नई दिल्ली।
राजधानी दिल्ली में पाइप के जरिए सप्लाई होने वाले पानी की गुणवत्ता के मुद्दे पर गुरुवार को केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री रामविलास पासवान ने एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई। बैठक में उपभोक्ता मामले के सचिव, दिल्ली जलबोर्ड के CEO, BIS के डीजी और जलशक्ति मंत्रालय, बीआईएस, उपभोक्ता विभाग, FSSAI सहित अन्य संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।
बैठक के दौरान, दिल्ली में सप्लाई होने वाले पानी के तय मानक, इस मानक के पालन की जिम्मेदारी किसकी हो, लोगों तक पहुंच रहे पानी की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए क्या उपाय किए जाएं और पानी की जांच के तरीकों पर विस्तार से चर्चा हुई। मंत्री महोदय ने बैठक के बाद प्रेस को संबोधित करते हुए बताया कि, स्वच्छ जल हर नागरिक का matter of right नहीं matter of life है। पाइप के जरिए सप्लाई होने वाले पानी का मानक BIS ने तय कर रखा है लेकिन तय मानकों को लागू करना अभी बाध्यकारी नहीं है। इसे बाध्यकारी बनाने पर सभी ने सहमती जताई है और इसके लिए प्रक्रिया शुरू की जा रही है। सभी राज्य सरकारों और इससे संबंधित मंत्रालयों को पत्र लिखकर इसपर उनका मंतव्य मांगा जा रहा है। BIS दिल्ली सहित सभी राज्यों की राजधानी और सरकार द्वारा घोषित 100 स्मार्ट सिटी से पानी के नमूने इकठ्ठा कर रहा है। सभी नमूनों की जांच कर, वहां के पानी की गुणवत्ता के आधार पर, इन शहरों की रैंकिंग जारी की जाएगी। दिल्ली में सप्लाई होने वाले पानी की गुणवत्ता पर दिल्ली जल बोर्ड और BIS की राय एक नहीं है। बैठक में दिल्ली जल बोर्ड और BIS के अधिकारी इस बात पर सहमत हुए कि दोनों संयुक्त रूप से दिल्ली के विभिन्न इलाकों से पानी का नमूना इकठ्ठा करेंगे और BIS उसकी जांच करेगा। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने लक्ष्य तय किया है कि 2024 तक सभी घरों में पाइप के जरिए स्वच्छ जल की आपूर्ति सुनिश्चित कर दी जाएगी। इसके लिए जरूरी है कि पहले सभी जगह स्वच्छ जल की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर हमने ये संकल्प लिया है कि देश के हर नागरिक को उसके घर तक अंतरराष्ट्रीय मानक की गुणवत्ता का स्वच्छ पानी उपलब्ध करवाएंगे।