ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
*बाबरी मस्जिद मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला ही स्वीकार है। इस मामले में किसी भी प्रकार की  सौदेबाजी का प्रयास अस्वीकार्य है:- इंजीनियर उबैदुल्लाह*
October 12, 2019 • S Z Mallik

 

(नई दिल्ली) बाबरी मस्जिद राम जन्मभूमि के मामले में सुलह वार्ता को फिर से शुरू करने को बिना वक़्त की रागनी  करार देते हुए, बिहार मुस्लिम युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग में  सलाहकार सदस्य इंजीनियर ओबेदुल्लाह ने कहा है  कि हमें  और बाकी दुनिया को भी अब केवल बाबरी मस्जिद  मामला में  अदालत के फैसले का इंतजार  है। इंजीनियर ओबैदुल्लाह ने कहा कि अचानक दो दिन पहले उत्तर प्रदेश के लखनऊ में कुछ तथाकथित मुस्लिम सेवकों और बुद्धिजीवियों की एक बैठक बुलाई गई और बाबरी मस्जिद की जमीन राम मंदिर को समर्पित करने की बात की गई जिस से  लोगों में बेचैनी  है कि आखिर  इन लोगों को अचानक ऐसी क्या आवश्यकता पड़ गयी कि  बिना किसी अनुमति लिए या जो लोग न्यायालय में बाबरी मस्जिद के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं उनसे पूछे  इतना बड़ा कदम उठा कर भारत के मुसलमानों के भावनाओं को आहत किया है। उन्होंने कहा कि पिछले 23 वर्षों से कोर्ट के बाहर बाबरी मस्जिद के भूअधिकारों के मुद्दे को हल करने के प्रयास किए गए, लेकिन उन्हें कोई सफलता नहीं मिली, क्योंकि जो दल राम मंदिर से जुड़े हैं वे कह रहे हैं कि पहले वहां राम मंदिर को स्वीकार करो। तब वे बात करेंगे। अब जब इस मामले की सुनवाई प्रतिदिन हो रही है और जब सुनवाई लगभग आसन्न है, तो अब केवल 3 दिन की सुनवाई शेष हैऔर नए लोगों के आने और नए चुटकुले बनाने की आवश्यकता नहीं है।उन्होंने इस प्रकार के असामाजिक लोगों की असहनीय किरतज्ञ की कड़ी निंदा की और कहा कि सुप्रीम कोर्ट को इस पर ध्यान देना चाहिए और इस सौदेबाज समूह के खिलाफ उचित कार्रवाई करनी चाहिए।उन्होंने कहा कि बाबरी मस्जिद मामले में न्यायालय पर पहले भी अटूट विश्वास था  यह आज भी है और इसमें सामंजस्य बना रहेगा। जहाँ तक बात सुलह की है सुलह का प्रयास एक बार नहीं बल्कि अनेकों बार किया गया और यह विफल हो गया, तो इस बात को फिर से दोहराने का क्या मतलब है? अब, सामंजस्य के बारे में बात करना एक कालातीत मजाक की तरह है, जो अब महत्वपूर्ण नहीं है। अंत में, इंजीनियर ओबैदुल्लाह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के  संवैधानिक पीठ ने स्पष्ट रूप से कहा है कि वह नवंबर में अपना फैसला सुनाएगी, इसलिए हम सभी अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट हमारे पक्ष में या हमारे खिलाफ जो भी फैसला करेगा हम उसे स्वीकार करेंगे। इस अवसर पर, उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अलावा कोई भी निर्णय अस्वीकार्य होगा और अगर कोई भी व्यक्ति या संगठन इस मामले पर मोलभाव करने की कोशिश करता है, तो भारत के मुस्लिम समुदाय का युवा वर्ग चुप नहीं रहेगा