ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
*कैट के नेतृत्व में अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट के खिलाफ हुई व्यापारियों की हल्ला बोल रैली*
January 8, 2020 • Snigdha Verma

Q
*दिल्ली का मुख्यमंत्री व्यापारी बने - व्यापारियों की मांग*
सुशील कुमार जैन संयोजक कैट दिल्ली एन सी आर ने बताया कि अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट जैसी ई कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ अपने राष्ट्रीय आंदोलन की धार को और अधिक पैनी करते हुए कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के दिल्ली में चल रहे राष्ट्रीय व्यापारी महाधिवेशन के आज तीसरे दिन कैट ने दिल्ली के रामलीला मैदान में एक " हल्ला बोल " रैली की जिसमें व्यापारियों ने इन दोनों कंपनियों द्वारा एफडीआई पालिसी को न मानते हुए देश के ई कॉमर्स व्यापार को दूषित करने के खिलाफ जमकर हल्ला बोला ! रैली में देश भर के सभी राज्यों एवं दिल्ली से आये लगभग 20 हजार से ज्यादा व्यापारियों ने रैली में भाग लिया ! कैट के सहयोगी संगठन आल इंडिया मोबाइल रिटेलर्स एसोसिएशन के आव्हान पर आज देश भर में 20 लाख से ज्यादा मोबाइल स्टोर बंद रहे ! कैट ने आज खुले रूप से चेतवानी दी है की या तो ये कंपनियां कानून का पालन करे अथवा भारत छोड़ें ! देश भर के 7 करोड़ व्यापारी इन कंपनियों को दूसरी ईस्ट इंडिया कम्पनी बनने नहीं देंगे !

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने महाधिवेशन में घोषणा करते हुए कहा की कैट के नेतृत्व में 15 जनवरी से 15 फरवरी तक एक राष्ट्रीय हल्ला बोल अभियान चलाया जाएगा जिसके अंतर्गत देश के सभी राज्यों के विभिन्न शहरों में व्यापारियों द्वारा हल्ला बोल रैली की जाएंगी और केंद्र एवं राज्य सरकारों से मांग की जायेगी की अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट जैसी ई कॉमर्स कंपनियों को सरकार या तो एफडीआई पालिसी का पालन करने को बाध्य करे अथवा इन कंपनियों को भारत से अपना व्यापार समेत लेने को कहे ! देश का व्यापारी वर्ग अब इन कंपनियों की ई कॉमर्स व्यापार में ज्यादतियों को सहन नहीं करेगा और यदि जरूरत पड़ी तो देश भर में करोड़ों व्यापारियों अब सड़को पर उतर कर हल्ला बोलेंगे ! 

अपने मजबूत राजनैतिक इरादे स्पष्ट करते हुए हल्ला बोल रैली में दिल्ली सहित देश भर के व्यापारियों ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष एवं गृह मंत्री श्री अमित शाह एवं भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा से जोरदार मांग की की दिल्ली के किसी व्यापारी को भाजपा मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित करे जिससे दिल्ली सहित देश भर के राजनैतिक वातावरण में बड़े स्तर पर व्यापारियों की सहभागिता हो सके ! इससे दिल्ली के 15 लाख से ज्यादा व्यापारी , 40 लॉक्स से ज्यादा उनके कर्मचारी एवं उनके परिवार भाजपा के समर्थन में एक पक्षीय समर्थन करेंगे वहीँ देश भर के 7 करोड़ व्यापारी से समर्थन भाजपा पूरे देश में मजबूत होगी ! व्यापारियों की उपेक्षा कर दिल्ली में सरकार नहीं बन सकती है !

श्री भरतिया एवं श्री खंडेलवाल ने ई कॉमर्स कंपनियों पर हल्ला बोलते हुए कहा की अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट कैसी ई कॉमर्स कंपनियां आर्थिक आंतकवादी हैं जो भारत के विशाल रिटेल बाजार से व्यापारियों को बाहर निकलकर अपना एक छत्र साम्राज्य स्थापित कर देश को लूटना चाहती हैं ! ये कंपनियां जीएसटी और आयकर की बड़े पैमाने पर कर वंचना कर भारतीय अर्थव्यवस्था की जड़ें खोखली करने में पूरी मजबूती से लगी है !इस लिए ये कंपनियां देश के बड़े कर चोरों में से एक है ! अब इनको यदि सरकार सबक नहीं सिखाएगी तो मजबूर होकर व्यापारियों को इन कंपनियों को सबक सिखाना पड़ेगा !

श्री भरतिया एवं श्री खंडेलवाल ने खुले शब्दों में कहा की यह कैसे हो सकता है की ये कंपनियां तो सरकार की नीति और कानून का पालन न करे जबकि दूसरी ओर देश भर के व्यापारी कानून का पालन कर अपने व्यापार पर इन कंपनियों द्वारा लगातार हो रहे कुठाराघात को सहते रहें ! यब और अधिक देश में नहीं चलेगा ! या तो सरकार तुरंत इन कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करे नहीं तो देश भर में सड़क से लेकर संसद तक व्यापारी एक बड़ा आंदोलन करने पर मजबूर हो जाएंगे और इस आंदोलन में न केवल व्यापारी बल्कि हॉकर्स, ट्रांसपोर्ट, लघु उद्योग, उपभोक्ता आदि को भी जोड़ा जाएगा !