ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी में 156 सेवाएं ऑनलाइन : नरेंद्र भूषण
May 28, 2020 • Snigdha Verma • Social
समीक्षा बैठक में सीईओ ने दिए शेष सेवाओं को भी ऑनलाइन करने के निर्देश
 तीन दिनों में निस्तारित करें लंबित आवेदन सीईओ
 
ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में जारी ऑनलाइन सेवाओं के तहत प्राप्त आवेदनों और उनके निस्तारण के बाबत हुई बैठक में अथॉरिटी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी नरेंद्र भूषण अफसरों को शेष सेवाएं भी ऑनलाइन करने और लंबित आवेदनों को तीन दिनों में निस्तारित करने के निर्देश दिए हैं। 
 
एसीईओ कृष्ण कुमार गुप्त ने बताया कि अथॉरिटी में अब तक आवासीय, वाणिज्यिक, ग्रुप हाउसिंग, उद्योग, संस्थागत, आईटी/ आईटीईएस आदि में 156 सेवाएं ऑनलाइन उपलब्ध कराई जा रही हैं। लॉकडाउन के कारण सभी विभागों में आनलाइन सेवाओं के तहत किए गए लगभग 1500 आवेदन लंबित हो गए थे। उनमें से एक दिन के भीतर 500 आवेदनों का निस्तारण कर दिया गया। उन्होंने बताया कि सीईओ नरेंद्र भूषण ने समीक्षा बैठक में शेष सभी आवेदनों का निस्तारण तीन दिनों के भीतर करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने सिस्टम विभाग को निर्देश दिया है कि प्राधिकरण के जिन विभागों की सेवाएं अब तक ऑनलाइन नहीं हुई हैं, उन्हें अतिशीघ्र ऑनलाइन सेवाओं से जोड़ दिया जाए। 
 
उन्होंने बताया कि अब प्राधिकरण अपने आवंटियों, निवासियों, उद्यमियों, निवेशकों और किसानों के लिए नियोजन, अर्बन, परियोजना, स्वास्थ्य, विद्युत, उद्यान, 6 प्रतिशत आबादी, भू-लेख, नगरीय सुविधाओं आदि विभागों को भी ऑनलाइन कर दिया जाएगा। इन सेवाओं के ऑनलाइन होने पर कोई भी आवंटी अपने आवंटन, शिकायत, भुगतान तथा अपने प्रार्थना पत्र/ की स्थिति आदि के बारे में घर बैठे ही जानकारी प्राप्त कर सकेगा। 
 
एसीईओ ने बताया कि प्राधिकरण में ऑनलाइन/ ईमेल के माध्यम से विभिन्न विभागों में प्राप्त होने वाले आवेदनों को प्राधिकरण के सिटीजन चार्टर के अनुरूप निर्धारित समय में निस्तारित करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि आवंटियों और जनसामान्य को प्रत्येक आवेदन में अपना मोबाइल नम्बर अनिवार्य रूप से अंकित करने होंगे, जिससे कि जरूरत पड़ने पर उनसे सम्पर्क स्थापित किया जा सके। 
 
समीक्षा बैठक में एसीईओ दीप चन्द्र, महाप्रबन्धक वित्त एचपी वर्मा, जीएम परियोजना समाकान्त श्रीवास्तव, पीके कौशिक, डीजीएम सिस्टम सीके त्रिपाठी आदि मौजूद थे।