ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती के उपलक्ष्य में एनबीटी पुस्तकों का लोकार्पण
November 6, 2019 • Snigdha Verma


वर्ष 2019 विश्वभर में गुरु नानक देव जी के 550वीं जयंती वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। इस अवसर पर दुनियाभर में गुरुनानक देव जी के जीवन एवं उनकी शिक्षाओं पर आधारित विभिन्न पैनल चर्चाओं, विचार-विमर्श, पुस्तक लोकार्पण, संगोष्ठियों आदि का आयोजन किया जा रहा है।
इस उपलक्ष्य में, भारतीय पाठकों के बीच गुरु नानक देव जी की लेखनी के प्रसार हेतु राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत द्वारा तीन पुस्तकों का प्रकाशन किया गया है, यथा - गुरु नानक बाणी, नानक बाणी तथा साखियाँ गुरु नानक देव। मूलतः इन पुस्तकों का प्रकाशन पंजाबी भाषा में किया गया है, 15 प्रमुख भारतीय भाषाओं में इनका अनुवाद किया जाएगा।
राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत द्वारा प्रकाशित उपरोक्त तीन पुस्तकों का लोकार्पण माननीय मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार, डाॅ. रमेश पोखरियाल 'निशंक' तथा माननीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री, भारत सरकार, श्रीमती हरसिमरत कौर बादल द्वारा 07 नवंबर, 2019 को प्रातः 10.00 बजे, श्री गुरु तेग बहादुर खालसा काॅलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय में किया जाएगा। इस अवसर पर अन्य वक्ताओं में शामिल हांेगे: प्रधानाचार्य, श्री गुरु तेग बहादुर खालसा काॅलेज, डाॅ. जसविन्दर सिंह; अध्यक्ष शासी निकाय, एसजीटीबीकेसी, श्री एस. तरलोचन सिंह; एनसीएमईआई सदस्य, डाॅ. जसपाल सिंह, तथा एनबीटी अध्यक्ष प्रो. गोविंद प्रसाद शर्मा।
राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत द्वारा गुरु नानक बाणी पुस्तक का उर्दू, ओड़िया, मराठी, हिंदी तथा गुजराती भाषाओं में पहले ही प्रकाशन किया जा चुका है। इसका असमिया, बांग्ला, कन्नड़, संस्कृत, कश्मीरी, मलयालम, पंजाबी, तमिल, तेलुगु, सिंधी तथा अंग्रेज़ी भाषाओं में अनुवाद यथासमय प्रकाशित कर लिया जाएगा। 
गुरु नानक देव जी ने सार्वभौमिक प्रकृति का एक व्यापक दर्शन स्थापित किया जिसकी प्रासंगिकता हर समय में है। उनकी शिक्षाएँ संपूर्ण मानव जाति के लिए हितकारी हैं क्योंकि ये शिक्षाएँ जीवन एवं समाज के सभी पहलुओं को सम्मिलित करती हैं तथा सामाजिक, धार्मिक, रंग, संप्रदाय, जाति आदि भेदभावों, राष्ट्रीय बाधाओं तथा सीमांकन से बहुत परे हैं।
नवंबर 2018 में प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में यूनियन कैबिनेट में यह प्रस्ताव पारित किया गया कि राज्य सरकारों तथा विदेशों में भारतीय नियुक्तवद के साथ मिलकर संपूर्ण देश एवं दुनियाभर में वर्ष 2019 को गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती के रूप में भव्य तरीके से मनाया जाए।