ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
इंडिया इंटरनेशनल हॉस्पिटेलिटी एक्सपो को ऑनलाइन करने की तैयारी
June 6, 2020 • रंजीत पंडित / सरदार इकबाल सिंह • Entertainment
देश का सबसे बड़ा हॉस्पिटेलिटी ट्रेड शो, आईएचई-2020 अब वर्चुअल मोड पर
 
कोरोना के चलते बदली वैश्विक स्तर पर सोच ने फैसले का किया स्वागत
 
वैश्विक विशेषज्ञों की राय, आईएचई 2020 भारतीय आतिथ्य सेक्टर का नया वैश्विक बाजार साबित होगा
 
ग्रेटर नोयडा। भारत के सबसे बड़े फूंड इंडस्ट्री और हॉस्पिटेलिटी सेक्टर के बी2बी आयोजन इंडिया इंटरनेशनल हॉस्पिटेलिटी एक्सपो के 2020 संस्करण को शत प्रतिशत ऑनलाइन करने की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। अपनी तरह के अनोखे अनुभव में विश्व के न्यू नॉर्मल यानी सामाजिक दूरी को कायम रखते हुए क्रेता-विक्रेता के संवाद और संपर्क पर जोर रहने वाला है।     
 
इंडिया एक्सपो मार्ट लिमिटेड (आईईएमएल) के चेयरमैन राकेश कुमार ने इस नए प्रारूप का उद्घाटन करते हुए कहा, कोविड-19 महामारी ने हमें लगातार नए आइडिया और अवसरों को तलाशने की चुनौती दी है। आपदा को अवसर बनाने के उद्देश्य से हमने आईएचई 2020 को स्थगित करने बजाय  क्लिक एंड नैवीगेट अनुभव को अपनाया, जिससे दुनिया के किसी भी कोने से पहुंचा जा सकता है। हम अपने आयोजन को दुनियाभर की ट्रैवल एडवाइजरी और स्वास्थ्य आपात स्थितियों से बचाने में सफल हुए हैं। 
 
उन्होंने बताया कि इस वर्ष ये आयोजन 5 से 8 अगस्त के बीच किया जाना है। पिछले वर्ष आईईएमएल एक्सपो सेंटर ग्रेटर नोएडा में आयोजित आईएचई 2019 में 21 हजार से ज्यादा दर्शक आए। 650 प्रतिभागियों ने 38 श्रेणियों में 25 हजार उत्पादों का प्रदर्शन किया। इनमें रसोई के उपकरणों, टेबल वेयर, शीशे के सामानों से लेकर फर्नीचर-फिक्सचर, वेलनेस उपकरण, हाउसकीपिंग, लॉन्ड्री, खाद्य प्रसंस्करण और कोल्ड स्टोरेज से जुड़े उत्पाद शामिल थे। 
 
इस आयोजन के वर्चुअल मोड पर सफलता से आयोजन के लिए आईईएमएल ने 14 वेबिनार्स आयोजित किए हैं। इनमें हॉस्पिटेलिटी सेक्टर के लिए कोविड 19 के बाद उपयोगी उत्पादों का एक वर्चुअल शो केस शामिल है। इसके अलावा तीन ऐसे आयोजन जल्द ही किए जाने हैं। पिछले छह हफ्तों के दौरान आयोजित इन वेबिनार्स में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर के सबसे नामचीन हस्तियों ने हिस्सा लिया इसमें होटल, रेस्टोरेंट्स, फूड प्रोसेसिंग, इवेंट्स, माइस(एमआईसीई), शादी आयोजन और बैंक्वेटिंग से जुड़े लोग शामिल हैं। 
 
प्रतिभागियों के पक्ष को साझा करते हुए राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता पॉटरी कंपनी के मालिक और आईएचई मेले के प्रेसिडेंट हरी दादू ने कहा, आईईएमएल में वर्चुअल तकनीक का इस्तेमाल कर हम हजारों किलोमीटर दूर लोगों से संपर्क स्थापित कर सकते हैं। भले ही लॉकडाउन में ढील मिल गई हो, पर महामारी की दहशत की वजह से लोग अभी भी यात्रा करने में हिचक रहे हैं। यही वजह है कि पूरी दुनिया में अब ऑनलाइन शो महत्वपूर्ण होने वाले हैं। जब लोग घरों से बाहर निकलना नहीं चाह रहे हों तो इस तरह के शो का महत्व बढ़ जाता है।
 
वर्चुअल आयोजन के बाबत राकेश कुमार ने बताया कि दुनिया के किसी भी कोने में रहने वाला कोई व्यक्ति अगर इस आयोजन में रुचि रखता है तो उसके पास लॉग इन होगा। उसे अगर एक्जिबिशन जोन में जाना है, सोमेलियर ट्रेनिंग सेशन या वर्चुअल फूड एंड कॉनक्लेव या फिर मास्टर क्लास में जाना है तो उसे बस अपने मनचाहे बटन पर क्लिक करना होगा। सही बटन पर क्लिक करने से वो आईएचई एक्सेलेंस अवार्ड का सीधा प्रसारण भी देख सकता है। 
आईएचई 2020 के वर्चुअल मोड में यूसर-फ्रेंडली नैवीगेशन सिस्टम का इस्तेमाल किया गया है। इससे जो भी विजिटर आईआईएचई 2020 में शिरकत करेंगे वो प्रतिभागियों के पूरे प्रोडक्ट कैटेलॉग देख सकेंगे। उनकी कॉरपोरेट फिल्में देख सकेंगे, अपने वर्चुअल कॉलिंग कार्ड्स की अदला बदली कर सकेंगे। इसके साथ ही फॉलोअप बातचीत भी व्हाट्स ऐप पर कर सकेंगे। और तो और, ये सब वो बिना अपने शहरों से बाहर निकले और कार्यस्थल से एक कदम बाहर रखे बिना कर सकेंगे।
 
इस बीच वैश्विक उद्योग संगठनों ने आईएचई 2020 के वर्चुअल मोड पर आने पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है। हॉस्पिटेलिटी सॉल्यूशन्स प्रदेता एचएसएमसी एशिया के संस्थापक सीईओ और होटल एंड रेस्टोरेंट इक्विपमेंट मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एचओटीआरईएमएआई- होटरेमाई) के प्रेसीडेंट अनिल मल्होत्रा के मुताबिक, यह कदम उठाने का इससे बेहतर समय कोई और नहीं हो सकता था। उन्होंने कहा कि आईएचई 2020 भारतीय उत्पादों को वैश्विक बाजारों और क्रेताओं तक पहुंचाने का सही मंच साबित होने वाला है। ये मेक इन इंडिया के विचार को भारत से बाहर के होटलों तक ले जाएगा। 
 
एफसीएमएल डिस्ट्रीब्यूटर्स प्राइवेट लिमिटेड के चेयरमैन निर्मल खंडेलवाल ने सकारात्मक ऊर्जा साझा करते हुए बताया, आईएचई 2020 के विस्तार का यही एक रास्ता था। उन्होंने उत्पादों के भौतिक सत्यापन की चिंता को दूर करते हुए कहा कि आयोजन का वर्चुअल मोड संभावित ग्राहकों को प्रतिभागियों के क्रिया-कलापों और उनके उत्पादों के बारे में पूरी जानकारी देगा और सही समय पर वो उत्पादों का सत्यापन कर सकते हैं। 
 
एसोसिएशन ऑफ रिसोर्स कंपनीज फॉर हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (आर्ची) के प्रेसीडेंट और होटल फर्नीचर एंड इक्विपमेंट कंपनी पनबन ग्रुप के प्रबंध निदेशक रजत पांधी ने भी सकारात्मक ऊर्जा का विस्तार करते हुए कहा, आईएचई 2020 में हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री में एमेजॉन या फ्लिपकार्ट बनने की पूरी क्षमता है। एक ऐसा वैश्विक ऑनलाइन मार्केट प्लेस, जहां पर होटल और रेस्टोरेंट प्रोडक्ट्स एंड सर्विसेज उपलब्ध कराया जा सके। पांधी ने कहा कि आयोजन का ये वर्चुअल मोड टीयर 2 और टीयर 3 शहरों और इलाकों तक पहुंचने की पूरी क्षमता रखता है और सही मार्केटिंग के साथ इन इलाकों के अब तक अछूते रह गये ग्राहकों और क्रेताओं का लाभ लिया जा सकता है। इसके साथ ही ये प्रतिभागियों के लिए बहुत सस्ता माध्यम भी साबित होगा, जिन्हें अपने विशाल सेटअप और अपने एक्जीक्यूटिव्स के आने जाने, ठहरने पर काफी पैसे खर्च करने पड़ते थे। 
 
राकेश कुमार ने कहा कि अगर हम अपनी योजना को सही ढंग से अमल में ला सकें तो लॉकडाउन के बाद की दुनिया में व्यापार मेलों का पूरा नजरिया, तरीका और काम करने के व्यवहार बदलने वाला है। हमारा कैलेंडर काफी व्यस्त है और हम आपको इससे जुडी सूचनाएं देते रहेंगे।