ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
कोरोना को हराने में कोताही न बरतें अधिकारी : स्वास्थ्य सचिव
July 14, 2020 • Snigdha Verma • Health

कोविड-19 के मद्देनजर अमित मोहन प्रसाद ने की तैयारियों की समीक्षा

 सेक्टर-39 में कोरोना मरीजों के लिए तैयार किए जा रहे अस्पताल को देखा

नोएडा। उत्तर प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने मंगलवार को जिले में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने और संक्रमित व्यक्तियों के लिए किए जा रहे इलाज की व्यवस्था का जायजा लिया। उन्होंने सेक्टर-39 में निजी कंपनियों की ओर से कोरोना मरीजों के लिए तैयार किए जा रहे कोविड-19 अस्पताल का भी दौरा किया। उन्होंने अफसरों को वायरस से संक्रमित व्यक्तियों का इलाज प्रोटोकॉल के अनुरूप करने के निर्देश दिए।

चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि पूरे प्रदेश में लोगों को कोविड-19 के संक्रमण से सुरक्षित करने और संक्रमित व्यक्तियों का प्रोटोकॉल के अनुरूप इलाज कराने की व्यवस्था की गई है। इस दिशा में शासन गंभीरता से काम कर रहा है। उन्होंने सेक्टर-39 में टाटा कंपनी और बिल गेट्स फाउन्डेशन कंपनी के सहयोग से तैयार किए जा रहे। इस पर 17 करोड़ रुपये की लागत आई है। अस्पताल का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस अस्पताल में फिलहाल 154 बेड तैयार किए जा चुके हैं। सभी बेड पर ऑक्सीजन की व्यवस्था की गई है। आईसीयू में 24 बेड की व्यवस्था की गई है। इस अस्पताल में 6 वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की गई है। इस हॉस्पिटल में भविष्य में 400 बेड की व्यवस्था की जाएगी। 

कोविड-19 महामारी के प्रसार को रोकने के लिए जिले में की जा रही व्यवस्थाओं की समीक्षा के दौरान स्थानीय अफसरों ने उन्हें बताया कि दो जुलाई से जिले में विशेष सर्विलांस अभियान चलाया जा रहा है। उसके तहत कुल 1532 टीमे गठित की गई हैं। इन टीमों के माध्यम से 10 लाख 41 हजार 346 घरों की जांच की गई है। जिसमें, 29 लाख 26 हजार 628 व्यक्तियों का कोरोना और अन्य बीमारियों के संबंध में निगरानी की गई है। इस विशेष सर्विलांस अभियान के तहत जिले में 825 व्यक्ति कोरोना संभावित मिले हैं। कोरोना के मद्देनजर ट्रेस एंड ट्रैक अभियान के तहत 328 एक्टिव कंटेनमेंट जोन में 1,95,443 घरों की जांच की गई है। 

समीक्षा के दौरान यह भी बताया गया कि कोविड-19 लेकर जनपद में 710 निगरानी समितियों का गठन किया गया है। जिले में 121 कोरोना हेल्प डेस्क संचालित किए जा रहे हैं। कोविड-19 मरीजों के लिए अस्पतालों में 5,574 बेड चिह्नित किए गए हैं। उनमें 2,894 बेड वर्तमान में क्रियाशील हैं। कोविड-19 के मद्देनजर 49 एंबुलेंस संचालित हैं। 

अमित मोहन प्रसाद ने जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से कहा कि वे सरकार की मंशा के अनुरूप कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की खोज करने और प्रोटोकॉल के अनुरूप उनका इलाज करने में कोई कोताही न बरतें। उन्होंने चेताया कि इस काम में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा गौतमबुद्ध जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम और संक्रमितों के इलाज के लिए किए गए इंतजामों के लिए अफसरों की तारीफ की। 

जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने अपर मुख्य सचिव को भरोसा दिया कि कोविड-19 महामारी को हराने के लिए प्रशासन युद्धस्तर पर काम कर रहा है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव को आश्वस्त किया कि वे शासन के मंशा और निर्देशों के अनुरूप पूरी क्षमता से काम करेंगे। इस अवसर पर कोविड-19 के नोडल अधिकारी नरेंद्र भूषण, मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व मुनींद्र नाथ उपाध्याय, उप जिलाधिकारी दादरी राजीव राय, नोएडा अथॉरिटी के एसीओ के अलावा जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के तमाम अधिकारी मौजूद थे।