ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
कोरोना वायरस ने देश के व्यापार पर असर डालना  शुरू कर दिया
March 5, 2020 • Snigdha Verma • Financial

Noida

*देश में चीनी माल का कोई खरीदार नहीं है*

सुशील कुमार जैन कैट चेयरमैन दिल्ली एन सी आर ने बताया कि इस वर्ष की होली कोरोना वायरस के कारण बन गया है, जो न केवल उपभोक्ताओं, बल्कि देश भर के व्यापारियों को चीनी सामानों से दूर रख रही है।  बड़ी मात्रा देश के अन्य राज्यों के व्यापारी जो दिल्ली से ख़रीदारी करते हैं वो लोग होली और अन्य खरीदारी के लिए दिल्ली की ओर रुख नहीं कर रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप चीनी सामानों का आयात करने वाले लोगों के पास चीनी सामान का ज़ख़ीरा बन गया है ।ऐसे व्व्यापारी जिनके पास वायरस का पता चलने से पहले के भी आयातित चीनी सामानों का स्टॉक है वो भी नहीं बिक रहा है । एक अनुमान के अनुसार, होली से संबंधित लगभग 500 करोड़ रुपये के चीनी सामान दिल्ली, मुंबई, बंगलौर और चेन्नई के आयातकों के पास पड़े हैं, जबकि एक अनुमान के अनुसार चीनी सामान देश भर में लगभग 3000 करोड़ रुपए की हानी का असर सामान सप्लाई चेन में पड़ा है । 

कैट ने खेद व्यक्त किया कि कोरोना वायरस पर देश भर में बहुत प्रचार किया गया है जिससे पूरे देश में एक अनावश्यक आतंक पैदा हो गया है जिसने भारतीय बाजार को बुरी तरह प्रभावित किया है क्योंकि धीरे-धीरे उपभोक्ता बाजारों में आने से कतरा रहे हैं जिसके परिणामस्वरूप व्यापार में धीरे-धीरे नुकसान होना शुरू हो गया है । 

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि कोरोना वायरस का प्रभाव चीन से होने वाले  उत्पादों पर भी काफी दिखाई देता है ।एक सुरक्षित रास्ता लेते हुए  लेते हुए उपभोक्ता पूरी तरह से चीनी सामानों से दूर हैं, इस डर से कि कोरोना वायरस से सामान संक्रमित हो सकता है। यहां तक ​​कि खुदरा व्यापारियों को उपभोक्ता के व्यवहार में बदलाव के कारण चीनी सामान खरीदने में कम से कम रुचि है। हालांकि जरूरी नहीं कि माल वायरस से प्रभावित हो लेकिन हां बाजार में चीनी सामानों से दूरी बनाए रखने हेतु व्यापारी और उपभोक्ता दोनों इन वस्तुओं को ख़रीदने से बच रहे हैं । 

श्री भरतिया और श्री खंडेलवाल दोनों ने कहा कि एक सामान्य व्यवसाय के रूप में आयातक 45 दिनों से लेकर 60 दिनों तक बफर स्टॉक अपने पास रखता है और उस अनुपात में नियमित अंतराल पर चीनी सामानों की खरीद की जाती है। कोरोना वायरस दिसंबर 2019 के अंत में पाया गया और जनवरी के पहले सप्ताह में सुर्खियों में आया जब चीन ने अपने उद्योगों को बंद कर दिया और लगभग 18 शहरों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया, जिससे माल के उत्पादन में पूरी तरह से रोक लगी। भारत चीनी वस्तुओं का प्रमुख आयातक है जो भारत में आपूर्ति श्रृंखला को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अब तक 45-60 दिनों के बफर स्टॉक ने आपूर्ति श्रृंखला को बनाए रखा है। हालांकि, ऐसे बफर स्टॉक अब समाप्त होने जा रहे हैं और उसके बाद आपूर्ति श्रृंखला बुरी तरह प्रभावित हो जाएगी। इस वाइरस के कारण चीनी वस्तुओं के प्रति खुदरा विक्रेताओं और उपभोक्ताओं दोनों के प्रति उदासीन रवैये ने उन्हें करोना वाइरस के कारण से के चीन से आयात किए गए सामानों को खरीदने के लिए मना कर दिया है।

कैट ने सरकार से पूरे देश में प्रभावी और स्थायी आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित करने के लिए एहतियाती कदम उठाने का आग्रह किया है।