ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
कोविड-19 के 5.3 लाख से ज्यादा लोग ठीक हुए; सक्रिय मामलों की संख्या 2.9 लाख
July 12, 2020 • Snigdha Verma • Health

ठीक हुए मामलों की संख्या, सक्रिय मामलों की तुलना में 2.4 लाख ज्यादा है पिछले 24 घंटों में 19,000 से ज्यादा लोग ठीक हुए परीक्षण दर प्रति दस लाख पर 8396.4 हुई
New Delhi

राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों की सरकार के साथ मिलकर केन्द्र सरकार ने केन्द्रित और समन्वित प्रयास किए। मामलों की जल्द से जल्द से पहचान करने, सही समय पर निदान करने और प्रभावी नैदानिक प्रबंधन जैसे उपाय करने से ठीक होने वाले मामलों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के कुल 19,235 रोगी ठीक हुए हैं। इसके परिणामस्वरूप, आज कोविड-19 रोगियों के बीच ठीक होने वाले मामलों की कुल संख्या बढ़कर 5,34,620 हो गई है। वर्तमान में ठीक होने (रिकवरी) की दर बढ़कर 62.93 प्रतिशत हो गई है।

चूंकि, चौतरफा प्रयासों के कारण ज्यादा लोग ठीक हो रहे हैं, इसलिए ठीक होने वाले मामलों की संख्या, सक्रिय मामलों से 2,42,362 से ज्यादा हो चुकी हैं। सभी 2,92,258 सक्रिय मामलों को चिकित्सा निगरानी के अंतर्गत रखा गया है।

कोविड-19 से ​​प्रभावितों लोगों को चिकित्सा निगरानी प्रदान करने के लिए, वर्तमान स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे में 1,370 समर्पित कोविड अस्पताल (डीसीएच), 3,062 समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्र (डीसीएचसी), और 10,334 कोविड देखभाल केंद्र (सीसीसी) शामिल हैं।

इन सुविधा केंद्रों का संचालन सफलतापूर्वक करने के लिए, केंद्र द्वारा अब तक 122.36 लाख पीपीई किट, 223.33 लाख एन95 मास्क उपलब्ध कराए गए हैं, और 21,685 वेंटिलेटर विभिन्न राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों/केंद्रीय संस्थानों में वितरित किए गए हैं।

कोविड-19 की जांच के लिए सभी बाधाओं को दूर करने और राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा जांच की सुविधा को निरंतर व्यापक बनाने जैसे सुधारात्मक कारकों के कारण, प्रत्येक दिन नमूनों की जांच में निरंतर वृद्धि हो रही है; पिछले 24 घंटों के दौरान 2,80,151 नमूनों की जांच की गई है। अब तक जांच किए गए नमूनों की कुल संख्या 1,15,87,153 हो चुकी है। इन प्रयासों के परिणामस्वरूप, वर्तमान में भारत में प्रति दस लाख पर परीक्षण दर 8396.4 हो चुकी है।

जांच की संख्या में हुई प्रगतिशील वृद्धि का एक महत्वपूर्ण कारक, देशव्यापी नैदानिक प्रयोगशाला नेटवर्क में होने वाला निरंतर विस्तार है, जिसमें वर्तमान समय में सरकारी क्षेत्र की 850 प्रयोगशालाएं और निजी क्षेत्र की 344 प्रयोगशालाएं (कुल 1194 प्रयोगशालाएं) हैं। इनमें शामिल हैं: