ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
क्या आपको भी कोरोना का डर सता रहा है?
April 25, 2020 •   डॉ उमेश शर्मा, मनोवैज्ञानिक • Health

नोएडा

संक्रामक रोगों के प्रबंधन में उभरती वैश्विक चुनौतियों में से एक कोरोनो वायरस है। 2-14 दिनों के भीतर सबसे आम लक्षणों में बुखार, थकान, सूखी खांसी शामिल हैं। अत्यंत उच्च संक्रमण दर और अपेक्षाकृत उच्च मृत्यु दर के साथ, व्यक्तियों को स्वाभाविक रूप से कोविड-19 के बारे में चिंता होने लगी। वास्तव में, उन व्यक्तियों से संपर्क करने के डर मन में बैठते जा  रहा है जो संभवतः कोविड-19 से संक्रमित है। दुर्भाग्य से, भय भी रोग के नुकसान को बढ़ा सकता है। डर के कारण, व्यक्ति कोविड--19 पर प्रतिक्रिया करते समय स्पष्ट और तर्कसंगत रूप से नहीं सोच सकता और स्वचालित नकारात्मक विचार( ANTS-Automatic Negative Thoughts) मन में आने लगते हैं, जैसे :
1 किसी को हो या न हो मुझे तो कोरोना होगा हीं।
2 कभी अचानक छिंंक आ गई, बस मैंने कहा था न ,लो हो गया
3 अगर मेरे हसबैंड को हो गया और वे मर गए तो क्या होगा। बच्चे का तापमान बार बार चेक कर रहे हैं।
4 मैं जिंदगी भर पाप किया हूूं,कोरोना मुझे होना चाहिए।
5 कोई भी लक्षण नहीं है पर जिद पर अड़े है कि मुझे कोरोना है। मेरा जाँच कराया जाय, जरूर पॉजिटिव निकलेगा। मुझे हॉस्पिटल ले चलो।
6 अगर मुझे कोरोना हो गया तो मैं बचूँगा नहीं।
7 ग्रंथो में लिखा है, कलयुग के अंत मे प्रलय आयेगा। वह आ चुका है।
ये सारे मानसिक चिंता के लक्षण हैं।
 *डर को जाने* मनोवैज्ञानिक परीक्षण- हाँ  या ना में उत्तर दें
1.मुझे कोरोनो वायरस से सबसे ज्यादा डर लगता है।
2.कोरोनो वायरस के बारे में सोचना मुझे असहज करता है।
3.कोरोनोवायरस के बारे में सोचते ही मेरे हाथ-पैर अकड़ जाते हैं।
4.कोरोनावायरस के कारण मुझे अपनी जान गंवाने का डर लगता है।
5.सोशल मीडिया पर कोरोनो वायरस के बारे में समाचार और कहानियां देखते समय मैं घबरा जाता हूं या चिंतित हो जाता हूं।
6.मैं  रात में ठीक से सो नहीं सकता क्योंकि मुझे कोरोनोवायरस से संक्रमित होने का डर सताती सताते रहता है।
7.जब मैं कोरोनोवायरस के बारे में सोचता हूं तो मेरा दिल धडकने लगता है।
इन 7 प्रश्नों में अगर आपका उत्तर हाँ में है तो आप मे डर बैठा हुआ है।
हालांकि,  दुनिया भर में कोविड-19  पर वर्तमान उपचार मुख्य रूप से संक्रमण नियंत्रण, प्रभावी टीका और उपचार उपचार  पर केंद्रित है। मनोसामाजिक पहलू पर अभी पूरी तरह से विचार किया जाना है।