ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
लुक्सर जेल में झगड़ा, घायल बंदी की इलाज के दौरान मौत
May 28, 2020 • Snigdha Verma • Crime
 बैरिक नंबर-3 में निरुद्ध था 28 साल का आरिफ, बिहार निवासी बंदी से हुआ था झगड़ा
 
ग्रेटर नोएडा। ईकोटेक-1 थाना क्षेत्र में स्थित लुक्सर जिला कारागार में आपसी झगड़े में घायल एक बंदी की इलाज के दौरान मौत हो गई। इस बाबत जेल प्रशासन की ओर से नियमानुसार जिला अदालत से न्यायिक जांच की प्रक्रिया पूरी करने का अनुरोध किया गया है। ईकोटेक-1 की पुलिस ने मामला दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। जेल अधीक्षक विपिन कुमार मिश्र ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। 
 
जेल अधीक्षक विपिन कुमार मिश्र ने बताया कि ग्रेटर नोएडा थाना क्षेत्र के सलेमपुर गुर्जर निवासी आरिफ पुत्र निसार कारागार के बैरिक नंबर-3 में बंद था। दनकौर थाने से उसे 02 दिसंबर-2019 को आर्म्स एक्ट के तहत निरुद्ध किया गया था। फिर 10 दिसंबर को उसे गैंगस्टर में निरुद्ध किया गया था। 28 वर्षीय आरिफ को कारागार के बैरिक नंबर-3 में रखा गया था। उसी बैरिक में हत्या का आरोपी मूल रूप से बिहार का रहने वाला अलाउद्दीन पुत्र कासिम भी निरुद्ध है। आरिफ और अलाउद्दीन के बची दोस्ती थी। दोनों एक साथ ही रहते थे। 
 
जेल अधीक्षक ने बताया कि 19 मई को दोनों के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया। झगड़े के दौरान दोनों पास की बनी नाली में गिर गए। इसमें आरिफ को चोट लग गई। जेल अस्पताल के डाक्टर ने उसे ग्रेटर नोएडा के गवर्नमेंट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (साइंस) रेफर किया। वहां से उसे नोएडा के सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल भेजा गया। जिला अस्पताल के डाक्टरों ने उसे दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल रेफर कर दिया। विपिन मिश्र ने बताया कि स्वास्थ होने के बाद सफदरजंग हॉस्पिटल से उसे 26 मई को डिस्चार्ज कर दिया गया। उसके बाद उसे लुक्सर जेल लाया गया। वह जेल में भी उपचाराधीन रहा। 
 
कारागार अधीक्षक विपिन मिश्र ने बताया कि 27 मई की दोपहर करीब दो बजे उसकी तबीयत अचानक बिगड़ गई। हेड जेल वार्डर रामपाल और जेल वार्डर सतेंद्र सिंह के साथ उसे नोएडा के जिला अस्पताल भेजा गया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उन्होंने बताया कि जेल वार्डर ने विचाराधीन बंदी आरिफ की मौत की जानकारी 27 मई की शाम करीब पांच बजे दी। 
 
विपिन मिश्र ने बताया कि लुक्सर जेल में निरुद्ध विचाराधीन बंदी की मौत की जानकरी देते हुए अदालत से न्यायिक जांच के लिए किसी न्यायिक मजिस्ट्रेट को नियुक्त करने का अनुरोध किया गया है।