ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
मनोज तिवारी ने भावुक ट्वीट कर कहा, कोई त्रुटि हुई हो तो क्षमा करें
June 2, 2020 • Snigdha Verma • Political

दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी की छुट्टी, आदेश गुप्ता संभालेंगे जिम्मेदारी

विधानसभा चुनाव में हार के बाद से ही उठने लगे थे विरोध के स्वर

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच भारतीय जनता पार्टी मंगलवार को पार्टी संगठन में बड़ा और अप्रत्याशित उलट-फेर किया है। पार्टी हाईकमान ने भोजपुरी गानों के सुपरस्टार दिल्ली प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी को उनके पद से हटा दिया। उनके स्थान पर उत्तर प्रदेश प्रदेश के कन्नौज जिले के रहने वाले आदेश गुप्ता को दिल्ली भाजपा का नया अध्यक्ष बनाया गया है। पद से हटाए जाने के बाद मनोज तिवारी ने एक भावुक ट्वीट कर दिल्ली की जनता का आभार जताया है। उन्होंने कहा, जानें-अनजाने कोई त्रुटि हुई हो तो क्षमा करें।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह ने दिल्ली प्रदेश भाजपा के नए अध्यक्ष की नियुक्ति का पत्र जारी किया है। मंगलवार को जारी पत्र में अरुण सिंह ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने आदेश कुमार गुप्ता को दिल्ली प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष नियुक्त किया है। इस नियुक्ति के तत्काल प्रभावी होने के बाद पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी भावुक हो गए।

इस अप्रत्याशित फैसले के बाद मनोज तिवारी ने ट्वीट कर कहा :-

प्रदेश अध्यक्ष के रूप में इस 3.6 साल के कार्यकाल में जो प्यार और सहयोग मिला उसके लिए सभी कार्यकर्ता, पदाधिकारी व दिल्लीवासियों का सदैव आभारी रहूंगा। जाने अनजाने कोई त्रुटि हुई हो तो क्षमा करना..। इसके साथ ही उन्होंने नए प्रदेश अध्यक्ष को शुभकामनाएं दी। उन्होंने लिखा कि भाई आदेश गुप्ता को असंख्य बधाइयां।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में मिली जीत के बाद भी मनोज तिवारी भाजपा की इस बढ़त को विधानसभा चुनाव में बरकरार नहीं रख पाए। हाल में ही हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी के हर बड़े नेता ने करीब-करीब मैदान में उतरकर पार्टी के लिए जी-तोड़ मेहनत की। लेकिन, पार्टी उसे सीट में बदलने में असफल रही। इसके बाद से ही सत्ता परिवर्तन की मांग उठने लगी थी। पार्टी के कई कार्यकर्ताओं में इस बात की चर्चा शुरू हो गई थी कि अब पार्टी को एक नए नेतृत्व की जरूरत है। हालांकि पार्टी ने विधानसभा चुनाव में अपनी ओर से पूरी ताकत झोंक दी थी, लेकिन दिल्ली की जनता केजरीवाल के पाले में जाने का मन बना चुकी थी। इस चुनाव में केजरीवाल को 62 सीटें  और भाजपा को 8 सीटें मिली थीं।