ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
पिछली बार की तुलना में 48 फीसदी से ज्यादा हुई ग्रीष्मकालीन फसलों की बुवाई
May 22, 2020 • Snigdha Verma • Ministries

मंत्री श्री तोमर के निर्देशों पर लॉकडाउन अवधि के दौरान भी तेजी से चल रही कृषि गतिविधियां

एफसीआईने अभी तक की 326.96 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी

नेफेडने 5.89 लाख मीट्रिक टन चना, 4.97 लाख मीट्रिक टन सरसों,4.99 लाख मीट्रिक टन तुअर खरीदी

पीएम-किसान योजना में 9.55 करोड़ किसानों के लिए 19100.77 करोड़ रू.जारी

नई दिल्ली केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण विभाग ने, मंत्री  नरेंद्र सिंह तोमर के दिशा-निर्देशानुसार, लॉकडाउन अवधि के दौरान क्षेत्र स्तर पर कृषि संबंधी गतिविधियों को सुविधाजनक बनाने के लिए कई उपाय किए है। इसके अनुरूप, एफसीआईद्वारा अभी तक 326.96 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीदीकी जा चुकी है। वहीं, नेफेडने 5.89 लाख मीट्रिक टन चना, 4.97 लाख मीट्रिक टन सरसों एवं 4.99 लाख मीट्रिक टन तुअरकी खरीद अभी तक कर ली है। पीएम- किसान योजना में 9.55 करोड़ किसान परिवारों को लाभान्वित किया गया है और 19100.77 करोड़ रूपएजारी किए गए हैं।ग्रीष्मकालीन फसलों की बुवाई भी पिछली बार से 48 प्रतिशत से ज्यादा हुई है।

     प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के अंतर्गत 24 मार्च 2020 से लॉकडाउन अवधि के दौरान, अभी तक लगभग 9.55 करोड़ किसान परिवारों को लाभान्वित करते हुए 19100.77 करोड़ रू. दे दिए गए हैं।

इसी तरह, लॉकडाउन अवधि के दौरान नेफेड द्वारा 5.89 लाख मीट्रिक टन चना, 4.97 लाख मीट्रिक टन सरसों और 4.99 लाख मीट्रिक टन तुअर की खरीद की गई है।रबी विपणन सीजन (आरएमएस) 2020-21 में, एफसीआई द्वारा 326.96 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा जा चुका है।

ग्रीष्मकालीन फसलों की बुवाई क्षेत्र की स्थिति इस प्रकार हैं-

  • चावल: पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 29 लाख हेक्टेयर की तुलना में इस बार ग्रीष्मकालीन चावल के अंतर्गत लगभग 34.87 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।
  • दलहन: पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 67 लाख हेक्टेयर की तुलना में दलहन के अंतर्गत इस बार लगभग 12.82 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।
  • मोटा अनाज: पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 30 लाख हेक्टेयर की तुलना में मोटे अनाज के अंतर्गत इस बार लगभग 10.28 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।
  • तिलहन: पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 34 लाख हेक्टेयर की तुलना में तिलहन के अंतर्गत इस बार लगभग 9.28 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।