ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
पूर्व विधायक गुड्डू पंडित के खिलाफ लॉकडाउन उल्लंघन का मुकदमा
June 8, 2020 • विशेष प्रतिनिधि • Crime

ईस्टर्न पेरिफेरल हाइवे पर समर्थकों के साथ मना रहे थे जन्मदिन

 एफआईआर में उनके 15-20 समर्थक भी आरोपी

ग्रेटर नोएडा। दादरी थाने की पुलिस ने बुलंदशहर के डिबाई विधानसभा सीट से दो बार विधायक रहे भगवान शर्मा उर्फ गुड्डू पंडित के खिलाफ लॉकडाउन के उल्लंघन और धारा-144 तोड़ने का मामला दर्ज किया है। इसमें पूर्व विधायक गुड्डू पंडित के अलावा उनके 15-20 समर्थकों को भी आरोपी बनाया गया है। 

पुलिस के मुताबिक सात जून की शाम करीब 4.30 बजे नोएडा के सेक्टर-53 गिझौड़ निवासी पूर्व विधायक भगवान शर्मा उर्फ गुड्डू पंडित पेरिफेरल हाइवे पर सिरसा टोल से दादरी की तरफ जाने वाली सड़क पर ग्राम रामपुर फतेहपुर के सामने अपना जन्मदिन मनाया। वहां 8-9 गाड़ियां खड़ी की गईं और उनके बोनट पर पूर्व विधायक ने केक काटा। आरोप है कि गुड्डू पंडित ने इस कार्यक्रम के लिए अपने 15-20 समर्थकों इकट्ठा किया। 

एफआईआर में कहा गया है कि पेरिफेरल हाइवे पर तैनात पीआरवी के कर्मचारी और कांस्टेबल राजपाल ने उन्हें हटाया। पूर्व विधायक और उनके 15-20 समर्थकों पर आरोप है कि उन्होंने सीआरपीसी की धारा-144 और लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर अपने समर्थकों के साथ केक काटकर जन्मदिन मनाया। इस दौरान सामाजिक दूरी बनाए रखने के नियमों का भी उल्लंघन किया गया। 

गौरतलब है कि भगवान शर्मा उर्फ गुड्डू पंडित बुलंदशहर के डिबाई विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक रहे। उनकी गिनती बाहुबलियों में होती है। उन्होंने वर्ष-2007 में बसपा के टिकट पर और वर्ष-2012 में समाजवादी पार्टी के टिकट पर डिबाई विधानसभा से जीत दर्ज की थी। वर्ष-2017 में बुलंदशहर सीट से राष्ट्रीय लोकदल के टिकट पर चुनाव लड़े, लेकिन जीत नसीब नहीं हुई। वर्ष-2019 में हुए लोकसभा चुनाव में आगरा के फतेहपुर लोकसभा सीट से बसपा के टिकट पर अपनी किस्मत आजमाई, लेकिन एक बार फिर उन्हें सफलता नहीं मिली। 

वर्ष-2019 में लोकसभा चुनाव में शिकस्त मिलने के बाद से ही गुड्डू पंडित खामोश हो गए थे। लेकिन, बीते एक महीने से उनकी सक्रियता फिर बढ़ गई है। बताया जाता है कि वह बुलंदशहर से चुनाव लड़ने की तैयारी में लगे हैं। बीते माह बुलंदशहर में पुजारी की हत्या के बाद गुड्डू पंडित उनके अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे। तब भी उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। बताया जाता है कि वह बुलंदशहर इलाके में खराब सड़कों, गड्डों और प्रशासनिक उपेक्षा से पीड़ितों का वीडियो बनाकर वायरल कर रहे हैं। यह भी आरोप लगाया जा रहा है कि वह खुलेआम मुख्यमंत्री को भी चुनौती दे रहे हैं। चर्चा इस बात की है कि गुड्डू पंडित के रवैये से परेशान होकर प्रशासन ने यह कार्रवाई की है।