ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
राउरकेला इस्पात संयत्र के जनरल अस्पताल में मुख्यमंत्री ने किया प्लाज्मा बैंक का उद्घाटन
July 31, 2020 • Snigdha Verma • Health

नई दिल्ली : सेल के राउरकेला इस्पात संयत्र के इस्पात जनरल अस्पताल में 31 जुलाई को ओडिशा के माननीय मुख्यमंत्री  नवीन पटनायक ने एक प्लाज्मा बैंक का ऑनलाइन उद्घाटन किया। ओडिशा सरकार के सहयोग से स्थापित यह प्लाज्मा बैंक कोविड-19 से गंभीर रूप से पीडित रोगियों के इलाज में उपयोगी साबित होगा। उल्लेखनीय है कि यह माननीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान के मार्गदर्शन में, सेल के राउरकेला इस्पात संयत्र का कोरोना महामारी से लड़ने के लिए जारी कई अनुकरणीय पहलों में से एक है।

श्री प्रधान सेल के अस्पतालों में बुनियादी ढांचे को और अधिक मजबूत करने और उसकी सेवाओं के विस्तार पर लगातार जोर दे रहे हैं। महामारी के प्रकोप के बाद से, उन्होंने इस क्षेत्र के लोगों के लिए कोविड -19 परीक्षण और इस्पात जनरल अस्पताल में उपचार के लिए सुविधाओं का निर्माण करने का निर्देश दिया था। इससे पहले अप्रैल के महीने में आई.जी.एच. में एक कोविड सैंपल टेस्टिंग लैब की स्थापना की गई थी जो इस बीमारी को फैलने से रोकने में काफी फायदेमंद साबित हुई है। इस क्षेत्र का पहला प्लाज्मा बैंक है, जहां प्लाज्मा संग्रह के लिए एफेरेसिस मशीन, सील करना, क्रैश कार्ट, ऑक्सीजन लाइन और प्लाज्मा के 350-500 यूनिटों के भंडारण के लिए प्लाज्मा कैबिनेट से लैस है। इस केंद्र में कोविड-19 से पूरी तरह से ठीक हो चुके मरीज प्लाज्मा दान कर सकते हैं।

कोविड-19 रोगियों के उपचार के लिए दिए जाने से पहले प्लाज्मा की गुणवत्ता की जांच के लिए प्लाज्मा बैंक में विभिन्न परीक्षण किए जाएंगे। केंद्र को इस्पात जनरल अस्पताल के डॉक्टरों और पैरामेडिक्स द्वारा संचालित किया जाएगा। इस मुश्किल घड़ी में, केंद्र इस क्षेत्र के लोगों के बीच आशा की एक नई किरण लेकर आया है। उद्घाटन कार्यक्रम में माननीय मंत्री (श्रम और रोजगार), ओडिशा सरकार, सुशांत सिंह, मंत्री (महिला और बाल विकास और मिशन शक्ति), ओडिशा सरकार, श्रीमती टुकुनी साहू, अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य और परिवार कल्याण), ओडिशा सरकार,  प्रदीप्त कुमार महापात्र, सीईओ, आरएसपी, दीपक चट्टराज और कई अन्य प्रतिष्ठित नेतागण, ओडिशा सरकार एवं राउरकेला इस्पात संयत्र के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे ।