ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
सोने चांदी की कीमतों में अनियंत्रित मूल्य - सोने के भाव 50000 प्रति दस ग्राम से ऊपर
July 23, 2020 • Snigdha Verma • Financial

नोएडा 

 लॉक डाउन पीरियड और बाजारों के खुलने के बाद और देश भर के बाजारों में अभी भी ग्राहक नही है, फिर भी आज सोने की कीमतें रु। 55,500 प्रति 10 ग्राम तक बढ़ गईं, जबकि चांदी की सत्तारूढ़ कीमत रु 62,000 प्रति किलोग्राम तक हो गई। उम्मीद है कि रक्षा बंधन 3 अगस्त से शुरू होने वाले लंबे त्योहारी सीजन में सोने और चांदी की बिक्री बढ़ेगी।

ऑल इंडिया ज्वैलर्स एंड गोल्डस्मिथ फेडरेशन के संस्थापक  सुशील कुमार जैन ने कहा कि इस उछाल के मद्देनजर सोने की कीमतों में दिवाली पर 55 हजार रू प्रति 10 ग्राम तक हो सकते है। श्री सुशील कमार जैन ने कहा कि 22 मार्च को लॉकडाउन से पहले, सोने की कीमत 41000 रुपये प्रति 10 ग्राम थी और चांदी की कीमत रु। 40000 / - प्रति किलो और अब सिर्फ 4 महीने की अवधि में सोने में 28-30% की वृद्धि हुई है और चांदी में यह वृद्धि लगभग 45% है। श्री सुशील कुमार जैन ने आगे कहा कि दिवाली के दौरान चांदी की कीमत रु 62,000 से 75 हजार प्रति किलोग्राम छूने की उम्मीद है। श्री जैन ने यह भी कहा कि सोना हमेशा ग्राहकों के लिए निवेश का सबसे अच्छा और सुरक्षित विकल्प रहा है क्योंकि सोने की कीमतें आम तौर पर बढ़ती रहती हैं जबकि दूसरी ओर, यह व्यापारियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण निवेश भी है जो काफी सुरक्षित है।

श्री जैन ने यह भी कहा कि सरकार ने 15 जनवरी, 2021 से हर सोने की वस्तु पर हॉलमार्किंग करने वाले प्रत्येक उत्पाद पर हॉलमार्किंग अनिवार्य कर दी है। सरकार ने अपने पुराने स्टॉक को खत्म करने के लिए ज्वेलर्स को एक वर्ष का समय दिया है। हालांकि, COVID 19 के कारण देश भर में व्यापारिक गतिविधियाँ बहुत अधिक बिगड़ गईं और वस्तुतः फरवरी के बाद से कोई बिक्री नहीं हुई जिसने ज्वैलर्स को उनके पुराने स्टॉक को खत्म करने से वंचित कर दिया। उन्होंने आगे कहा कि पूरे देश में लगभग 3 लाख ज्वैलर्स हैं और अगर प्रत्येक ज्वैलर के पास 1 किलोग्राम का स्टॉक है। सोना, तब देश में लगभग 300 टन पुराना सोना था और देश में व्यापार की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए, ज्वैलर्स को पुराने स्टॉक को निकालने के लिये और हालमार्किंग नियमो का अनुपालन करने के लिए दो साल का समय चाहिए होगा। 

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के सेक्रटरी जनरल प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि सीएआईटी केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री  रामविलास पासवान के साथ ज्वेलर्स की समस्यायो के समाधान हेतु मिलना का समय सुनिश्चित करेगा और उनसे आग्रह करेगा कि अनिवार्य हॉलमार्किंग की तारीख को 15 जनवरी 2021 से दो साल और आगे बढ़ा दिया जाय। जिससे कि पुराने स्टाक को आराम से निकाला जा सके।