ALL Crime Ministries Science Entertainment Social Political Health Environment Sport Financial
व्यापार में गति के लिए शनिवार, रविवार की बंदी पर पुनर्विचार कर बाजार खोलने की अनुमति दी जाय: मार्किट संगठन
July 31, 2020 • Snigdha Verma • Financial

नोएडा

अनलाक -3  में केंद्रीय सरकार ने कंटेनमेंट जोन के अलावा सभी तरह के  लाकडाउन को खोलने के निर्देश दिये। रात्रि कर्फ्यू भी हटा लिया गया और जिम, योगा आदि सेंटर खोलने की अनुमति दी गयी। उधर उत्तर प्रदेश सरकार के आदेशो मे अभी भी शनिवार रविवार का लाकडाउन जारी रखा गया।

  सुशील कुमार जैन ,अध्यक्ष सेक्टर 18 मार्किट एसोसिएशन नोएडा एवं संयोजक कंनफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स (दिल्ली एन सी आर ) ने कहा कि सभी जानते है यह त्योहारो का समय है और नौकरी पेशा लोग जिन्हे शनिवार, रविवार को ही हफ्ते मे छुट्टी मिलती है वो लोग अपनी खरीदारी इस लाकडाउन की बजह से नही कर पायेंगे। क्या खाली मिठाई की दुकाने और राखी की दुकाने शनिवार, रविवार को खोलने से त्योहार की जरूरते पूरी की जा सकती है। इस बार राखी का त्योहार शनिवार , रविवार के लाकडाउन के तुरन्त बाद सोमवार को है।

 सुशील कुमार जैन ने कहा कि शासन को अपने निर्णय पर पुनर्विचार करते हुये शनिवार, रविवार को बाजार खोलने की अनुमति देनी चाहिये । सरकार चाहे तो शाम के समय चार पाॅच घंटे बाजार खुलवा दे। जिससे की लोग उत्साह के साथ अपने त्योहार मना सके। राखी का त्योहार बहन भाई का बहुत बड़ा त्योहार होता है सभी बहना अपने भाईयो के लिये तरहाॅ तरहाॅ की तैयारी करती है । अपने भाई की कलाई पर राखी बाधने के लिये विभिन्न उपहार लेकर जाती है । ऐसे मे बाजार बंद होने पर बहनो को अपनी सारी तैयारियो को घर पर रहकर करना होगा। जहाॅ महिलाऐ घर से बाजार आकर पकवान आदि का सामान , मिठाई आदि की खरीदारी करती है, मेंहदी लगवाती है , चूड़िया, नये बस्त्र आभूषण आदि खरीदारी करती है , अपने भाईयो के लिये तमाम तरहाॅ के उपहार लेती है और भाई भी अपनी बहन को देने लिये तरहाॅ तरहाॅ के उपहार लेता है बही इस बार बाजार कोविड 19 के चलते सुनसान ही रहे। ज्यादातर लोग शनिवार , रविवार को बाजार मे आते है और इन दिनो मे बाजार बंद होने की बजह से अपनी खरीदारी नही कर पाते है। जिस बड़ी संख्या मे बाजार मे रौनक एक हफ्ते पहले से होती थी अब वैसी रौनक देखने को नही मिली। और शनिवार , रविवार लाकडाउन की बजहा से सभी ग्राहक इस तरहा की खरीदारी नही कर पायेंगे। ज्यादातर महिलायो ने घर मे ही रहकर मजबूरी मे अपने त्योहार की तैयारी स्वयं ही की । घर मे ही मेंहदी लगवाना, पकवान , मिठाई आदि घर पर ही वनाना आदि बजहो से बाजार मे वो उत्साह देखने को नही मिला। अभी भी लोगो मे कोरोना महामारी का खौफ कायम है और लोग सुरक्षित रहने के साथ लगातार बाजार से दूरी बना रहे है। ऐसे मे ई कामर्स पोर्टल पर व्यापार लगातार बड़ रहा है। और अब समय आ गया है सभी व्यापारियो को भी अपने प्रतिष्ठान को आनलाईन करना होगा । जो लोग बाजार मे अपने प्रतिष्ठान पर ग्राहक के इन्तजार मे है उन्हे अपने प्रतिष्ठान को आनलाईन बाजार से जोड़कर व्यापार करना होगा। जब तक की कोरोना जैसी महामारी से बचाव की वैक्सीन बाजार मे नही आ जाती तव तक शायद बाजारो मे वो रौनक देखने को ना मिले। इस बीच रेस्टोरेन्ट, स्पा, सैलून, टूर एंड ट्रेवल आदि बहुत से व्यवसाय लगभग समाप्त हो गये है । बाजार मे 30% से ज्यादा प्रतिष्ठान बंद हो गये है ऐसा इससे पहले कभी नही देखा गया। उपर से शासन प्रशासन की नितिया भी बाजार का पक्ष मे नही है। एकतरफ शनिवार , रविवार को बाजार बंद है दूसरी ओर प्रशासन बाजार मे सड़क के साथ बनी पार्किंग को समाप्त करने मे व्यस्त है जिसकी बजह से व्यापारीयो मे भारी रोष की स्थिति है।

कंफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स के दिल्ली एन सी आर संयोजक सुशील कुमार जैन ने बताया कि अपने व्यापार मे बिक्री बनाये रखने के लिये कैट सभी तरहा के व्यवसायो को आनलाइन करने के लिये आगे आकर ,निशुल्क सभी तरहा के व्यवसाय को बाजार के साथ साथ आनलाइन करने का साधन उपलव्ध करायेगा।

 सुशील कुमार जैन, संयोजक, कैट दिल्ली एन सी आर ने बताया कि ऐसा ही एक प्रयास कैट द्वारा लाकडाउन के चलते किराना दुकानो को आनलाईन करके किया था। इसी तरहा अब सभी तरहा के व्यवसायो को निशुल्क आनलाईन किया जायेगा। शाशन प्रशाशन से फिर से अनुरोध है कि बाजार मे बापिस व्यापार की गति को लाने के लिये शनिवर , रविवार की बंदी पर पुनर्विचार कर बाजार खोलने की अनुमति दी जाय। बाजार मे सड़को के साथ पार्किंग को समाप्त नही किया जाय।